HAMARI KISMAT ME CHAHAT HI NAHI, SAD SHAYARI

11

मुझे उससे कोई शिकायत ही नहीं,
शायद हमारी किस्मत में चाहत ही नहीं|
मेरी तक़दीर को लिखकर खुदा भी मुकर गया,
पूछा तो बोला ये मेरी लिखावट ही नहीं|

Mujhe Usse Koi Shikayat Hi Nahi,
Shayad Hamari Kismat Me Chahat Hi Nahi.
Meri Taqdir Ko Likhkar Khuda Bhi Mukar Gya,
Puchha To Bola Ye Meri Likhawat Hi Nahi

Comments

comments